Khushali Kumar Song Normal Days Lyrics | New Hindi Song

Khushali Kumar Song Normal Days Lyrics

Normal Days Lyrics, a poem from the lockdown times. The poem is written by Khushali Kumar, the music is by Jigar Panchal, Chirag Panchal, and the poem also narrated by Khushali Kumar. The video is directed by Mohan S Vairaag.

Khushali Kumar Song Normal Days Lyrics | New Hindi Song
Khushali Kumar Song Normal Days Lyrics | New Hindi Song 
Video of the Song “Normal Days”

Khushali Kumar Song Normal Days Lyrics

Jab maa kehti thi woh bhi kya din the 
Peeche jaane ki zaroorat kya hai?
Aksar main ye sochti thi sunkar 

Kuch dino se halaat normal nahi hai 
Mann apne aap bhaag jata hai un dino 
ki aur jab sab normal tha 

Ek cup chai aur glucose ke biscuit 
Kha kar kaam par nikalna 
maa ka peeche peeche bhagkar 
tiffin pakdana 
Are lunch to le jaa saath 

Raaste mein logo ko traffic chaalan dene se bachne ke liye 
inspactor se ladte dekh lagta tha police public se kyu jhagadti hai??
par aaj police kamaal lagti hai 

Kahi se kuch bhi kehte huye dost kya lagte the 
lagaatar ek hi baat par ghanto baatein 
ab lagta hai woh time weast nahi kiya 
us connection ka maza hi kuch aur tha 

Jinse kabhi hello bhi nahi huyi 
aaj unka bhi chehra jana sa lagta hai 
jiske paas ghar nahi hai unke bhi 
aankhe ka sapna apna sa lgta hai 

shayad ye kudrat hum se kuch keh rahi hai
ab thoda ruk kar sochne ko
keh rahi hai
ab tak jo hua ussey kuch seekhne ka ishara kar rahi hai
ab aane wale samay sabko haath pakad kar chalna hoga
maa shayad yehi keh rahi hai

Ab ahmiyat pata chali ki normal 
se badhkar kuch aur nahi hai

Meri maa ka pehle ke dino ko saraahna 
ab samjh aaya kyu zaroori hai?
taki jab sab normal ho jaye 
to hum har us cheez ko jo hamaare 
muh par hasi aur 
doosro ke chehre par khushi 
laati hai use jiye 
uski khushi meri hasi 
tera mera naa koi faasla 

Maa sabki sach kehti hai 
…..Sapne sabki aankho mein hai 
unhe fir se such karenge 
bas ho jaye ek baar fir wapis 
Normal Days 

Khushali Kumar Song Normal Days Lyrics in Hindi 

जब माँ कहती थी “वो भी क्या दिन थे”  
पीछे जाने की ज़रूरत क्या है?
अक्सर में ये सोचती थी सुनकर 

कुछ दिनों से हालात नॉर्मल नहीं हैं
मन अपने आप भाग जाता है उन दिनों 
की और, जब सब नॉर्मल  था

एक कप चाय और ग्लूकोस के बिस्किट 
खा कर काम पर निकलना
माँ का पीछे पीछे भागकर 
टिफिन पकड़ाना 
‘अरे लंच तो ले जा साथ’

रस्ते में लोगों को ट्रैफिक चालान देने से बचने के लिए  
इंस्पेक्टर से लड़ते  देख लगता था पुलिस पब्लिक से क्यों झगड़ती है??
मैं बदल गयी या मेरा नज़रिया 
पर आज पुलिस कमाल लगती है 

कहीं से कुछ भी कहते हुए दोस्त क्या लगते थे
लगातार एक ही बात पर घंटो बातें 
अब लगता है वो टाइम वेस्ट नहीं किया 
उस कनेक्शन का  मज़ा ही कुछ और था 

जिनसे कभी हेलो भी नहीं हुई 
आज उनका भी चेहरा जाना सा लगता है
जिनके पास घर नहीं हैं उनके भी 
आँखें का सपना अपना सा लगता है

शायद ये कुदरत हम से कुछ कह रही है 
अब थोड़ा रुक कर सोचने को 
कह रही है 
अब तक जो हुआ उससे कुछ सीखने का इशारा कर रही है 
अब आने वाले समय सबको हाथ पकड़ कर चलना होगा 
माँ शायद यही कह रही है  

अब अहमियत पता चली की नॉर्मल 
से बढ़कर कुछ और नहीं है

मेरी माँ का पहले के दिनों को सराहना
अब समझ आया क्यों ज़रूरी है?
ताकी जब सब नॉर्मल हो जाये
तो हम हर उस चीज़ को जो हमारे 
मुँह पर हंसी और 
दूसरों के चेहरे पर ख़ुशी 
लाती है उसे जिएँ 
उसकी ख़ुशी मेरी हसी 
तेरा मेरा ना कोई फासला 

माँ सबकी सच कहती है 
…..सपने सबकी आँखों में है
उन्हें फिर से सच करेंगे 
बस हों जाए एक बार फिर वापस
नॉर्मल डेज 

Additional info of the new hindi song 
Normal Days lyrics 

Title – Normal days
Music – Jigar Panchal, Chirag Panchal
Lyrics – Khushali Kumar
Music Label – T-Series
Poem Narrated by & Featuring  – Khushali Kumar

Share This Song

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *